देव प्राण प्रतिष्ठा

hare-krishna-movement-jaipur-300x225-210x126

देव प्राण प्रतिष्ठा

देव प्रतिमाओं का प्राण प्रतिष्ठा में यज्ञ-अनुष्ठान (विशेष पूजा पद्धति द्वारा आह्वान करके देव (भगवान) की प्रतिमा में प्राण की प्रतिष्ठा)
हमारे द्वारा वेदोक्त-शास्त्रोक्त-पुराणोक्त पद्धति से विद्वान् ब्राम्हणों द्वारा विधि विधान पूर्वक सम्पन्न करवाया जाता हैं.

प्राणप्रतिष्ठा का अर्थ

१. प्राण धारण कराना ।
२. हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार किसी नई बनी हुई मूर्ति को मंदिर आदि में स्थापित करते समय मंत्रों द्वारा उसमें प्राण का आरोप करना ।
(विशेष- साधारणतः जबतक किसी मूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा न हो ले तबतक वह मूर्ति पूजा के योग्य नहीं होती और उसकी गणना साधारण धातु, मिट्टी या पत्थर आदि में होती है । प्राणप्रतिष्ठा के उपरांत ही उस मूर्ति में देवता का आना माना जाता है)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Translate »